Thursday, July 12, 2007

मौला मेरे मौला

आंखें तेरी..

कितनी हंसीं..

के इनका आशिक मैं बन गया हूँ.. मुझको बसा ले इनमें तू..

इश्क है...

मौला मेरे मौला मेरे मौला मेरे मौला मेरे मौला मेरे मौला मेरे
मौला मेरे मौला मेरे मौला मेरे ...

के इनका आशिक मैं बन गया हूँ मुझको बसा ले इनमें तू..
मुझसे ये हर घड़ी मेरा दिल कहे तुम ही हो इसकी आरज़ू..
मुझसे ये हर घड़ी मेरे लब कहे तेरी ही हो सब गुफ्तगू
बातें तेरी इतनी हंसीं.. मैं याद इनको जब करता हूँ.. फ़ूलों सी
आये खूशबू..

रख लूं छुपा के मैं कहीं तुझको.. साया भी तेरा ना मैं दूं..
रख लूँ बना के कहीँ घर मैं तुझे..
साथ तेरे मैं ही रहूँ..

ज़ुल्फ़ें तेरी.. इतनी घनीं..
देख के इनको..
ये सोचता हूँ.
साये में इनके मैं जियूं..

इश्क है...


मौला मेरे मौला मेरे मौला मेरे मौला मेरे
मौला मेरे मौला मेरे ..


मेरा दिल यही बोला.. यारा राज़ ये मेरा उसने है मुझपर खोला..
के है इश्क मोहब्बत जिसके दिल में उसको पसंद करता है मौला

aankhein teri..

kitni hanseen..

ke inka aashiq main ban gaya hoon.. mujhko basaa le inmein tu..

sihq hai...

maula mere maula mere maula mere maula mere maula mere maula mere
maula mere maula mere maula mere ...

ke inka aashiq main ban gaya hoon mujhko basa le inmein tu..
mujhse yeh har ghadi mera dil kahe tum hi ho iski arzoo..
mujhse yeh har ghadi mere lab kahe teri hi ho sab guftagoo
baatein teri itni hanseen.. main yaad inko jab karta hoon.. pholon si
aaye khushboo..

rakh lon chhupa ke main khain tujhko.. saya bhi tera na main doon..
rakh lun bana ke kahin ghar main tujhe..
sath tere main hi rahoon..

zulfein teri.. itni ghaneen..
deh ke inko..
yeh sochta hoon.
saye mein inke main jiyun..

ishq hai...


maula mere maula mere maul a mere maula mere maula mere maula mere
maula mere maula mere ..


mera dil yahi bola.. yara raaz yeh mera usne hai mujhpar khola..
ke hai ishq mohabbat jiske dil mein usko pasand karta hai maula

No comments: