Friday, July 13, 2007

रात हमारी तो चांद की सहेली है

I dont usually write song reviews,
and I must mention that it is not a review..

I had just written the lyrics here, but the beauty of the song made me edit the post..

Lyrcist: Swanand
Music: Shantanu Moitra
Singer: Chitra Singh


This song is about the bonding of the night and darkness ( रात और अँधेरा )

Its said that usually night is a friend of moon but today it is moonless (रात हमारी तो चांद की सहेली है
कितने दिनों के बाद,आई वो अकेली है)

let both of them ( night and darkness ) talk today.. let even the evening lamps be turned off.. (सन्झा कि बाती भी कोई बुझा दे आज
अँधेरे से जी भर के करनी हैं बातें आज)

Really meaningful lyrics..
Though darkness is harsh and pinching and painful..
still night feels the belongingness..

Read and enjoy..


रतिया,कारी कारी रतिया
रतिया,अंधियारी रतिया

रात हमारी तो चांद की सहेली है
कितने दिनों के बाद,आई वो अकेली है
चुप्पी कि बिरहा है,झींगुर का बाजे साज़


रात हमारी तो चांद की सहेली है
कितने दिनों के बाद आई वो अकेली है
सन्झा कि बाती भी कोई बुझा दे आज
अँधेरे से जी भर के करनी हैं बातें आज

अँधेरा रूठा है..
अँधेरा एन्ठा है..
गुमसुम सा कोने में बैठा है..

रात हमारी तो चांद की सहेली है
कितने दिनों के बाद आई वो अकेली है
सन्झा की बाती भी कोई बुझा दे आज
अँधेरे से जी भर के करनी हैं बातें आज


अँधेरा पागल है, कितना घनेरा है
चुभता है डंसता है फिर भी वो मेरा है
उसकी ही गोदी में सर रख कर सोना है..
उसकी ही बाहों में चुपके से रोना है..
आंखों से काजल बन बहता अँधेरा आज॥

रात हमारी तो चांद की सहेली है
कितने दिनों के बाद आई वो अकेली है
सन्झा की बाती भी कोई बुझा दे आज
अँधेरे से जी भर के करनी हैं बातें आज

अँधेरा रूठा है..
अँधेरा एन्ठा है..
गुमसुम सा कोने में बैठा है..


फिल्म : पहेली

ratiya,kaari kaari ratiya
ratiyaa,andhiyari ratiya

raat humari to chand ki saheli hai
kitne dino ke baad,aai wo akeli hai
chuppi ki birha hai,jhingur ka baaje saaz


raat humari to chand ki saheli hai
kitne dinon ke baad aai wo akeli hai
sanjha ki baati bhi koi bujha de aaj
andhere se ji bhar ke karni hain baatein aaj

andhera rootha hai..
andhera aintha hai..
gumsum sa kone mein baitha hai..

raat humari to chand ki saheli hai
kitne dinon ke baad aai wo akeli hai
sanjha ki baati bhi koi bujhe de aaj
andhere se ji bhar ke karni hain baatein aaj


andhera paagal hai kitna ghanera hai
chubhta hai dansta hai fir bhi wo mera hai
uski hi godi mein sar rakh kar sona hai..
uski hi baahon mein chupke se rona hai..
aankhon se kaajal ban behta andhera aaj..
raat humari to chand ki saheli hai
kitne dinon ke baad aai wo akeli hai..
sanjha ki baati bhi koi bujha de aaj
andhere se ji bhar ke karni hain baatein aaj..

andhera rootha hai..
andhera aintha hai..
gumsum sa kone mein baitha hai..

2 comments:

उन्मुक्त said...

'रात हमारी तो चांद की सहेली है' मेरे विचार से यह गाना तो परणीता का है कि पहेली का ???

Kanan said...

It is a beautiful song.
I really enjoyed reading your analysis of the lyrics. Do write more.