Wednesday, July 11, 2007

वो हसीं दर्द दे दो

वो हसीं दर्द दे दो
जिसे मैं गले लगा लूं
वो निगाह मुझपे डालो
कि मैं जिन्दगी बना लूं

तुम्हें तुम से मांगती हूँ
ज़रा अपना हाथ दे दो
मुझे आज जिन्दगी की वोह सुहागरात दे दो
जिसे ले के कुछ ना माँगूं
और माँग में सजा लूँ

मेरी आरज़ू तो देखो
तुम्हें सामने बिठा कर
कभी दिल के पास ला कर
कभी दिल रुबा बना कर
कोई दास्तां सुन लूं
कोई दास्तां सीना दूं

मैने प्यार के अलावा
कभी तुमसे कुछ ना माँगा
तुम्हें जाने क्या समझ कर
मैने हर कदम पे चाहा
मेरा आज फैसला है
तुम्हें हमसफ़र बना लूं

वोह हसीं दर्द दे दो
जिसे मैं गले लगा लूं
वोह निगाह मुझपे डालो
कि मैं जिन्दगी बना लूं

woh haseen dard de do
jise main gale laga loon
woh nigaah mujhpe daalo
ki main zindagi bana loon

tumhein tum se maangti hoon
zaraa apna haath de do
mujhe aaj zindagi ki woh suhagraat de do
jise le ke kuchh na maangoon
aur maang mein sajaa loon

meri aarzoo to dekho
tumhein samne bitha kar
kabhi dil ke pas la kar
kabhi dil ruba banaa kar
koi dastaan sun loon
koi dastaan sina doon

maine pyar ke alaawaa
kabhi tumse kuchh na maanga
tumhein jane kya samajh kar
maine har kadam pe chaha
mera aaj faisla hai
rumhein humsafar bana loon

woh haseen dard de do
jise main gale laga loon
woh nigaah mujhpe dalo
ki main zindagi bana loon

No comments: