Wednesday, July 11, 2007

ओ पालानहारे

ओ पालानहारे
निर्गुण और न्यारे
तुमरे बिन हमरा कौनो नहीं
हमरी उलझन सुलझाओ भगवन

तुम्ही हमका हो संभाले
तुम्ही हमरे रखवाले
तुमरे बिन हमरा
कौनो नहीं
तुमरे बिन हमरा कौनो नहीं


चन्दा में तुम्ही तो भरेहो चान्दनी
सूरज में उजाला तुम्हई से


येह गगन है मगन
तुम्हई तो दिए हो इसे तारे
भगवन येः जीवन
तुम्ही ना संवारोगेतो क्या कोई संवारे

पालानहारे निर्गुण और न्यारे
तुमरे बिन हमरा कौनो नहीं





जो सुन तो कहें
प्रभुजी हमरी है विनती
दुखिजन को धीरज दो
हारे नहीं वो कभी दुःख se
तुम निर्बल को रक्षा दो
रह पाए निर्बल सुख से

भक्ती को शक्ति दो


जग के जो स्वामी हो इतनी तो अरज सुनो

हैं पथ में अंधियारे
दे दो वरदान में उजियारे

पालानहारे निर्गुण और न्यारे
तुमरे बिन हमरा कौनो नहीं
हमरी उलझन सुल्झाओ भगवन तुमरे बिन हमरा कौनो नहीं

o paalanhaare
nirgun aur nyare
tumre bin humra kauno nahin
humri uljhan suljhaao
bhagvan

tumhai humka ho sambhale
tumhai humre rakhwale
tumre bin humra
kauno nahin
tumre bin humra kauno nahin


chanda mein tumhai to bhareho chandi
suraj men ujala tumhai se


yeh gagan hai magan
tumhai to diye ho ise taare
bhagvan yeh jeevan
tumhai na sanvarogeto kya koi sanvare

o paalanhaare nirgun aur nyare
tumre bin humra kauno nahin





jo sun to kahein
prabhuji humri hai vinti
dukhijan ko dheeraj do
haare nahin woh kabhi dukh se
tum nirbal ko raksha do
reh paaye nirbal sukh se
bhakti ko shakti do


jag ke jo swamiho itni to araj suno

hain path mein andhiyare
de do vardaan mein ujiyaare
tumre bin humra kauno nahin
humri uljhan suljhao bhagvan tumre bin humra kauno nahin

No comments: