Friday, August 31, 2007

चैन से हमको कभी

चैन से हमको कभी आपने जीने ना दिया
ज़हर भी चाहा अगर पीना तो पीने ना दिया
चैन से हमको कभी

चांद के रथ में रात कि दुल्हन जब जब आएगी
याद हमारी आपके दिल को तडपा जायेगी
आपने जो है दिया
वोह तो किसी ने ना दिया
ज़हर भी चाहा अगर पीना तो पीने ना दिया
चैन से हमको कभी


आप का गम जो इस दिल में दिन रात अगर होगा
सोच के यह दम घुटता है फिर कैसे गुज़र होगा
काश ना आती अपनी जुदाई मौत हो आ जाती
कोई बहाने चैन हमारी रूह तो पा जाती
एक पल हँसना कभी दिल कि लगी ने ना दिया
ज़हर भी चाहा अगर पीना तो पीने ना दिया

चैन से हमको कभी

chain se humko kabhi aapne jeene na diya
zehar bhi chaha agar peena to peene na diya
chain se humko kabhi

chand ke rath mein raat ki dulhan jab jab aayegi
yaad humari aapke dil ko tadpaa jaayegi
aapne jo hai diya
woh to kissi ne na diya
zehar bhi chaha agar peena to peene na diya
chain se humko kabhi


aap ka gham jo is dil mein din raat agar hoga
soch ke yeh dam ghutta hai fir kaise guzar hoga
kaash na aati apni judai maut ho aa jaati
koi bahaane chain humari rooh to paa jaati
ek pal hansna kabhi dil ki lagi ne na diya
zehar bhi chaha agar peena to peene na diya

chain se humko kabhi

No comments: