Friday, August 31, 2007

मेरा कुछ समान

मेरा कुछ समान
तुम्हारे पास पड़ा है
हो सावन के कुछ भीगे भीगे दिन रखे हैं
और मेरे एक ख़त में लिपटी रात पडी है
वोह रात बुझे दो मेरा वोह सामान लौटा दो
मेरा कुछ समान
तुम्हारे पास पड़ा है
हो सावन के कुछ भीगे भीगे दिन रखे हैं
और मेरे एक ख़त में लिपटी रात पडी है
वोह रात बुझे दो मेरा वोह सामान लौटा दो

पतझड़ है कुछ
है ना

पतझड़ में कुछ पत्तों के गिरने की आहट
कानों में एक बार पहले की लॉट आयी थी
पतझड़ की वोह शाख अभी तक कांप रही है
वोह शाख हिला दो
मेरा वोह समान लौटा दो


एक अकेली छतरी में जब आधे आधे भीग रहे थे
एक अकेली छतरी में जब आधे आधे भीग रहे थे
आधे सूखे आधे गीले सुखा तो मैं साथ ले आयी थी
गीला मॅन शायद बिस्तर के पास पड़ा हो
वोह भिजवा दो मेरा वोह सामान लौटा दो

mera kuchh samaan
tumhare paas pada hai
ho sawan ke kuchh bheege bheege din rakhe hain
aur mere ek khat mein lipti raat padi hai
woh raat bujhe do mera woh saamaan lauta do
mera kuchh samaan
tumhare paas pada hai
ho sawan ke kuchh bheege bheege din rakhe hain
aur mere ek khat mein lipti raat padi hai
woh raat bujhe do mera woh saamaan lauta do

patjhad hai kuchh
hai na

patjhad mein kuchh patton ke girne ki aahat
kaanon mein ek baar pehle ki laut aayi thi
patjhad ki woh shaakh abhi tak kaamp rahi hai
woh shaakh hila do
mera woh samaan lauta do


ek akeli chhatri mein jab aadhe aadhe bheeg rahe the
ek akeli chhatri mein jab aadhe aadhe bheeg rahe the
aadhe sukhe aadhe geele sukha to main saath le aayi thi
geela mann shayad bistar ke paas pada ho
woh bhijwa do mera woh saamaan lauta do

No comments: