Friday, August 31, 2007

आवारापन बंजारापन एक खला है सीने में

आवारापन बंजारापन एक खला है सीने में
हरदम हर पल बेचैनी है कौन बला है सीने में
इस धरती पर जिस पल सूरज रोज सवेरे उगता है
इस धरती पर जिस पल सूरज रोज सवेरे उगता है
अपने लिए तो ठीक उसी पल रोज़ ढला है सीने में
आवारापन बंजारापन एक खला है सीने में

जाने यह कैसी आग लगी है इस में धुँआ ना चिंगारी
जाने यह कैसी आग लगी है इस में धुँआ ना चिंगारी
हो ना हो इस बार कहीँ कोई ख़्वाब जला है सीने में
आवारापन बंजारापन एक खला है सीने में


जिस रस्ते पर तपता सूरज सारी रात नहीं ढलता
जिस रस्ते पर तपता सूरज सारी रात नहीं ढलता
इश्क कि ऎसी राहगुज़र को हमने चुना है सीने में
आवारापन बंजारापन एक खला है सीने में



kahaan kisi ke liye hai mumkin sab ke liye ik saa hona
kahaan kisi ke liye hai mumkin sab ke liye ik saa hona
thoda sa dil mera bura thoda bhala hai seene mein
awarapan banjarapan ek khala hai seene mein



awarapan banjarapan ek khala hai seene mein
hardam har pal bechainee hai kaun balaa hai seene mein
is dhartee par jis pal suraj roj savere ugta hai
is dhartee par jis pal suraj roj savere ugta hai
apne liye to theek usee pal roz dhala hai seene mein
awarapan banjarapan ek khala hai seene mein

jaane yeh kaisee aag lagi hai is mein dhuaan na chingaari
jaane yeh kaisee aag lagi hai is mein dhuaan na chingari
ho na ho is bar kahin koi khwaab jala hai seene mein
awarapan banjarapan ek khala hai seene mein


jis raste par tapta suraj sari raat nahin dhalta
jis raste par tapta suraj sari raat nahin dhalta
ishq ki aisee raahguzar ko humne chuna hai seene mein
awarapan banjarapan ek khala hai seene mein



kahaan kisi ke liye hai mumkin sab ke liye ik saa hona
kahaan kisi ke liye hai mumkin sab ke liye ik saa hona
thoda sa dil mera bura thoda bhala hai seene mein
awarapan banjarapan ek khala hai seene mein

No comments: