Wednesday, May 2, 2007

अँखियों के झरोखो से

अँखियों के झरोखो से मैने देखा जो साँवरे
मुझे तुम नज़र आए बड़ी दूर नज़र आए
बंद करके झरोखो को
ज़रा बैठी जो सोचने
बंद करके झरोखो के
ज़रा बैठी जो सोचने मन में तुम ही मुस्काये

अँखियों के झरोखों से...

एक मन था मेरे पास वो अब खोने लगा है
पा कर तुझे हाए मुझे कुछ होने लगा है
एक मन था मेरे पास वो अब खोने लगा है
पा कर तुझे हाए मुझे कुछ होने लगा है
एक तेरे भरोसे पे सब बैठी हूँ भूल के
एक तेरे भरोसे पे सब बैठी हूँ भूल के

यूँ ही उम्र गुज़र जाए तेरे साथ गुज़र जाए

अँखियों के झरोखों से...

जीती हूँ तुम्हें देख के मरती हूँ तुम्ही पे
तुम हो जहाँ साजन मेरी दुनिया है वहीं पे
जीती हूँ तुम्हें देख के
मरती हूँ तुम्हीं पे
तुम हो जहाँ साजन मेरी दुनिया है वहीं पे

दिन रात दुआ मांगे मेरा मन तेरे वास्ते
कभी अपनी उम्मीदों का कोई फूल ना मुरझाए
अँखियों के झरोखों से...


मैं जब से तेरे प्यार के रंगो में रंगी हूँ
जागते हुए सोई रही नींदों में जागी हूँ
मैं जब से तेरे प्यार के रंगो में रंगी हू
जागते हुए सोई रही नींदों मे जागी हू
मेरे प्यार भरे सपने कही कोई ना छीन ले
मन सोच के घबराए
यही सोच के घबराए

अँखियों के झरोखों से मैने देखा जो साँवरे



ankhiyon ke jharokho se maine dekha jo saanvre

mujhe tum nazar aaye badi dur nazar aaye

band karke jharokho ko

zara baithee jo sochne

band karke jharokho ke

zara baithee jo sochne man mein tum hi muskaye



ankhiyon ke jharokhon se...



ek man tha mere pas vo ab khone laga hai

pa kar tujhe haye mujhe kuch hone laga hai

ek man tha mere pas vo ab khone laga hai

pa kar tujhe haye mujhe kuch hone laga hai

ek tere bharose pe sab baithee hun bhool ke

ek tere bharose pe sab baithee hun bhul ke



yun hi umr guzar jaye tere sath guzar jaye



ankhiyon ke jharokhon se...



jeetee hun tumhein dekh ke marti hun tumhi pe

tum ho jahaan saajan meri duniya hai vaheen pe

jeetee hun tumhen dekh ke

martee hun tumhin pe

tum ho jahaan saajan meri duniya hai vaheen pe



din raat dua maange mera man tere vaaste

kabhi apni ummeedon ka koi phool na murjhaye

ankhiyon ke jharokhon se...





main jab se tere pyar ke rango mein rangee hun

jagte hue soyi rahi nindon mein jagi hun

main jab se tere pyar ke rango mein rangee hu

jagte hue soyi rahee nindon me jagi hu

mere pyar bhare sapne kahi koi na cheen le

man soch ke ghabraye

yahi soch ke ghabraye



ankhiyon ke jharokhon se maine dekha jo saanvare


Music Director : Ravindra Jain
Movie: अँखियों के झरोखो से
Singer: Hemlata
Year 1978

No comments: