Wednesday, May 2, 2007

आज कल पाँव ज़मीन पर

आज कल पाँव ज़मीन पर नहीं पड़ते मेरे
बोलो देखा है कभी तुमने मुझे उड़ते हुए


जब भी थामा है तेरा हाथ तो देखा है
जब भी थामा है तेरा हाथ तो देखा है
लोग कहते हैं की बस हाथ की रेखा है
हमने देखा है दो तकदीरों को जुड़ते हुए
आज का पाँव ज़मीन आर नहीं पड़ते मेरे
बोलो देखा है कभी तुमने मुझे उड़ते हुए

नींद सी रहती है हल्का सा नशा रहता है
रात दिन आँख में इक चेहरा बसा रहता है
पर लगी आनहों को देखा है कभी उड़ते हुए
बोलो?


जाने क्या होता है हर बात पे कुछ होता है
दिन मे कुछ होता है और रात में कुछ होता है
थाम लेना जो कभी देखो हमें उड़ते हुए
आजकल पाँव ज़मीन पर नहीं पड़ते मेरे
बोलो देखा है कभी तुमने मुझे उड़ते हुए
आज कल पाँव ज़मीन पर नहीं पड़ते !

aaj kal panv zameen par nahin padte mere

bolo dekha hai kabhi tumne mujhe udte hue





jab bhi thama hai tera haath to dekha hai

jab bhi thama hai tera haath to dekha hai

log kahte hain ki bas haath ki rekha hai

hamne dekha hai do takdeeron ko judte hue

aaj ka panv zameen ar nahin padte mere

bolo dekha hai kabhi tumne mujhe udte hue



neend see rahti hai halka sa nasha rahta hai

raat din aankh mein ik chehra basa rahta hai

par lagi aanhon ko dekha hai kabhi udte huye

bolo?





jane kya hota hai har baat pe kuch hota hai

din me kuch hota hai aur rat mein kuch hota hai

thaam lena jo kabhi dekho hamein udte huye

aajkal paanv zameen par nahin padte mere

bolo dekha hai kabhi tumne mujhe udte huye

aaj kal paanv zameen par nahin padte !

Composition R.D. Burman
Lyrics Gulzar
Movie Ghar
Sung by Lata Mangeshkar

No comments: