Friday, December 14, 2007

वो चुप रहें तो मेरे दिल के दाग़ जलते है

वो चुप रहें तो मेरे दिल के दाग़ जलते हैं
जो बात कर लें तो बुझते चिराग जलते हैं
वो चुप रहें तो मेरे दिल के दाग़ जलते हैं


कहो बुझें कि जलें
हम अपनी राह चलें
या तुम्हारी राह चलें
कहो बुझें कि जलें
बुझे तो ऐसे कि जैसे किसी ग़रीब का दिल
जलें तो ऐसे कि जैसे चिराग़ जलते हैं

ये खोई खोई नज़र
कभी तो होगी इधर या सदा रहेगी उधर
यह खोई खोई नज़र
उधर तो एक सुलगता हुआ है वीराना
है एक वीराना..
मगर इधर तो बहारों में बाग जलते हैं
वो चुप रहें तो मेरे दिल के दाग़ जलते हैं

जो अश्क पी भी लिए
जो होंठ सी भी लिए तो सितम ये किस्पे किये
जो अश्क पी भी लिए
कुछ आज अपनी सुनाओ कुछ आज मेरी सुनो
कुछ आज मेरी सुनो
खामोशियों से तो दिल और दिमाग जलते हैं
वो चुप रहें तो मेरे दिल के दाग़ जलते हैं
जो बात कर लें तो बुझते चिराग़ जलते हैं
वो चुप रहें तो मेरे दिल के दाग़ जलते हैं॥


wo chup rahein to mere dil ke daag jalte hain
jo baat kar lein to bujhte chiraag jalte hain
wo chup rahein to mere dil ke daag jalte hain


kaho bujhein ki jalein
hum apni raah chalein
ya tumhari raah chalein
kaho bujhein ki jalein
bujhe to aise ki jaise kisi gareeb ka dil
jalein to aise ki jaise chiraag jalte hain

ye khoi khoi nazar
kabhi to hogi idhar ya sadaa rahegi udhar
yeh khoi khoi nazar
udhar to ek sulagta hua hai veeraanaa
hai ek veerana..
magar idhar to bahaaron mein baagh jalte hain
wo chup rahein to mere dil ke daag jalte hain

jo ashq pi bhi liye
jo honth see bhi liye to sitam ye kispe kiye
jo ashq pi bhi liye
kuchh aaj apni sunao kuchh aaj meri suno
kuchh aaj meri suno
khaamoshiyon se to dil aur dimaag jalte hain
wo chup rahein to mere dil ke daag jalte hain
jo baat kar lein to bujhte chiraag jalte hain
wo chup rahein to mere dil ke daag jalte hain..

No comments: