Friday, December 14, 2007

ओ रे मांझी

ओ रे मांझी
ओ रे मांझी

मेरे साजन हैं उस पर
मैं मन मार हूँ इस पार
ओ मेरे माझी अब कि बार
ले चल पार ले चल पार..
मेरे साजन हैं उस पर..

ओ... मन कि किताब से तुम
मेरा नाम ही मिटा देना
गुण तो न था कोई भी
अवगुण मेरे भुला देना
मुझे आज कि विदा का मर के भी रहेगा इंतज़ार

मत खेल जल जाएगी
कहती है आग मेरे मन कि
मैं बंदिनी पिया कि
मैं संगिनी हूँ साजन कि
मेरा खींचती है आँचल


o re manjhi
o re manjhi

mere saajan hain us par
main mann maar hoon is paar
o mere maajhi ab ki baar
le chal paar le chal paar..
mere saajan hain us par..

o... mann ki kitaab se tum
mera naam hi mita dena
gun to na tha koi bhi
avgun mere bhula dena
mujhe aaj ki vida ka mar ke bhi rahega intzaar

mat khel jal jaaegi
kehti hai aag mere man ki
main bandini piya ki
main sangini hoon saajan ki
mera kheenchti hai aanchal
mera kheenchti hai aanchal
manmeet teri har pukar
mere saajan hain us par..
मेरा खींचती है आँचल
मनमीत तेरी हर पुकार
मेरे साजन हैं उस पर..

No comments: