Monday, November 5, 2007

तारे ज़मीन पर..

देखो इन्हें ये हैं
ओस कि बूँदें
पत्तों कि गोद में
आस्मां से कूदें
अंगडाई लें फिर
करवट बदल कर
नाज़ुक से मोती
हंस दे फिसल कर
खो न जाएँ यह
तारे ज़मीन पर..

यह तोः हैं सर्दी में
धूप कि किरनें
उतरें जो आँगन को
सुनहरा सा करने
मॅन के अंधेरो को
रौशन सा कर दें
ठिठुरती हथेली की
रंगत बदल दें
खो न जाएँ यह
तारे ज़मीन पर..

जैसे आंखों की डिबिया में निंदिया
और निंदिया में मीठा सा सपना
और सपने में मिल जाये फरिश्ता सा कोई
जैसे रंगों भरी पिचकारी
जैसे तितलियाँ फूलों की क्यारी
जैसे बिना मतलब का प्यारा रिश्ता हो कोई
यह तोः आशा की लहर है
यह तो उम्मीद की सेहर है
खुशियों की नहर है

खो न जाएँ यह
तारे ज़मीन पर..



देखो रातों के सीने पे यह तोः
झिलमिल किसी लौ से उगे हैं
यह तोः अम्बिया की खुशबू हैं बागों से बह चले
जैसे कांच की चूड़ी के टुकड़े
जैसे खिले खिले फूलों के मुखड़े
जैसे बंसी कोई बजाये पदों के टेल
यह तोः झोंके हैं पवन के
हैं यह घुँघरू जीवन के
यह तोः सुर हैं चमन के

खो न जाएँ यह
तारे ज़मीन पर..


मोहल्ले की रौनक
गलियाँ हैं जैसे
खिलने की जिद पर
कलियाँ हैं जैसे
मुट्ठी में मौसम की
जैसे हवाएं
यह हैं बुजुर्गों के दिल की दुआएं..

खो न जाएँ यह
तारे ज़मीन पर..

कभी बाआतें जैसे दादी नानी
कभी चीखें जैसे मम्मम पानी
कभी बन जाएं भोले सवालों की झड़ी
सन्नाटे में हंसी के जैसे
सूने होठों पे ख़ुशी के जैसे
यह तोः नूर हो बरसे गर तेरी किस्मत हो बड़ी
जैसे झील में लहराए चन्दा
जैसे भीड़ में अपने का कन्धा
जैसे मन मौजी नदिया झाग उडाये कुछ कहीं
जैसे बैठे बैठे मीठी से झपकी
जैसे प्यार की धीमी सी थपकी
जैसे कानों में सरगम हरदम बजती रहे..

खो न जाएँ यह
तारे ज़मीन पर..


--
dekho inhein yeh hain
os ki boondein
patton ki god mein
asmaan se koodein
angdaai lein fir
karwat badal kar
nazuk se moti
hans de fisal kar
kho na jaayein yeh
taare zameen par..

yeh toh hain sardi mein
dhoop ki kirnein
utarein jo aangan ko
sunahara sa karne
mann ke andhero ko
roushan sa kar dein
thithurti hatheli ki
rangat badal dein
kho na jaayein yeh
taare zameen par..

jaise aankhon ki dibiya mein nindiya
aur nindiya mein meetha sa sapna
aur sapne mein mil jaaye farishta sa koi
jaise rangon bhari pichkaari
jaise titliyan phoolon ki kyari
jaise bina matlab ka pyara rishta ho koi
yeh toh aasha ki lehar hai
yeh to ummeed ki sehar hai
khushiyon ki nehar hai

kho na jaayein yeh
taare zameen par..



dekho raaton ke seene pe yeh toh
jhilmil kisi lau se uge hain
yeh toh ambiya ki khushboo hain baagon se beh chale
jaise kaanch ki choodi ke tukde
jaise khile khile phoolon ke mukhde
jaise bansi koi bajaye pedon ke tale
yeh toh jhonke hain pawan ke
hain yeh ghunghroo jeewan ke
yeh toh sur hain chaman ke

kho na jaayein yeh
taare zameen par..


mohalle ki rounak
galiyaan hain jaise
khilne ki zid par
kaliyaan hain jaise
mutthhi mein mausam ki
jaise hawaaein
yeh hain buzurgon ke dil ki duaein..

kho na jaayein yeh
taare zameen par..

kabhi baaaatein jaise dadi nani
kabhi cheekhein jaise mammam paani
kabhi ban jaaein bhole sawaalon ki jhadi
sannate mein hansi ke jaise
soone hothon pe khushi ke jaise
yeh toh noor ho barse gar teri kismat ho badi
jaise jheel mein lehraye chanda
jaise bheed mein apne ka kandha
jaise man mauji nadiya jhaag udaaye kuchh kahin
jaise baithe baithe meethi se jhapki
jaise pyar ki dheemi si thapki
jaise kaanon mein sargam hardam bajti rahe..

kho na jaayein yeh
taare zameen par..

1 comment:

Anonymous said...

Your blog keeps getting better and better! Your older articles are not as good as newer ones you have a lot more creativity and originality now keep it up!