Monday, November 5, 2007

खोलो खोलो दरवाज़े

फिल्म : तारे ज़मीन पर

खोलो दरवाज़े
परदे करो किनारे
खूंटे से बंधी है हवा
मिल के छुडाओ सारे

आजाओ पतंग लेके
अपने ही रंग लेके
आसमान का शामियाना
आज हमें है सजाना

क्यों इस कदर हैरान तू
मौसम का है मेहमान तू
ओ दुनिया सजी तेरे लिए
खुद को ज़रा पहचान तू

तू धूप हैं झम से बिखर
तू है नदी बेखबर
बह चल कहीं उड़ चल कहीं
दिल खुश जहाँ तेरी तो मंजिल है वहीं




क्यों इस कदर हैरान तू
मौसम का है मेहमान तू

बासी ज़िंदगी उदासी
ताजी हँसने को राज़ी
गरमा गरम सारी
अभी अभी है उतारी

ज़िंदगी टू है बताशा
मीठी मीठी सी है आशा
चख ले रख ले
हथेली से धक् ले इसे

तुझ में अगर प्यास है
बारिश का घर भी पास है
रोके तुझे कोई क्यों भला
संग संग तेरे आकाश है

तू धूप हैं झम से बिखर
तू है नदी ओ बेखबर
बह चल कहीं उड़ चल कहीं
दिल खुश जहाँ तेरी तो मंजिल है वहीं

क्यों इस कदर हैरान तू
मौसम का है मेहमान तू


खुल गया आसमान का रास्ता देखो खुल गया
मिल गया खो गया था जो सितारा मिल गया

रोशन हुई सारी ज़मीन
जगमग हुआ सारा जहाँ
उड़ने को तू आजाद है
बन्धन कोई अब है कहाँ

तू धूप हैं झम से बिखर
तू है नदी बेखबर
बह चल कहीं उड़ चल कहीं
दिल खुश जहाँ तेरी तो मंजिल है वहीं
--

kholo kholo darwaze
parde karo kinare
khuntey se bandhi hai hawa
mil ke chhudao saare

aajao patang leke
apney hi rang leke
aasmaan ka shamiyana
aaj hamein hai sajana

kyun is kadar hairaan tu
mausam ka hai mehmaan tu
o duniya sajee tere liye
khud ko zara pehchaan tu

tu dhoop hai jham se bikhar
tu hai nadee o bekhabar
beh chal kahin ud chal kahin
dil khush jahan teri toh manzil hai wahin

kyun is kadar hairaan tu
mausam ka hai mehmaan tu

baasi zindagi udaasi
taazi hasney ko raazi
garma garam saari
abhi abhi hai utaari

zindagi to hai batasha
meethi meethi si hai aasha
chakh le rakh le
hatheli se dhak le ise

tujh mein agar pyaas hai
baarish ka ghar bhi paas hai
roke tujhe koi kyon bhala
sang sang tere aakash hai

tu dhoop hai jham se bikhar
tu hai nadee o bekhabar
beh chal kahin ud chal kahin
dil khush jahan teri toh manzil hai wahin

kyun is kadar hairaan tu
mausam ka hai mehmaan tu

kholo kholo darwaze
parde karo kinare
khuntey se bandhi hai hawa
mil ke chudao saare

khul gaya aasmaan ka rasta dekho khul gaya
mil gaya kho gaya tha jo sitara mil gaya

roshan hui saari zameen
jagmag hua saara jahaan
udne ko tu azad hai
bandhan koi ab hai kahan

tu dhoop hai jham se bikhar
tu hai nadee o bekhabar
beh chal kahin ud chal kahin
dil khush jahan teri toh manzil hai wahin

1 comment:

Anonymous said...

Thank you VERY VERY much. I have been looking for this for a long time. Seattle Hindi student,