Saturday, June 16, 2007

किसका रस्ता देख

किसका रस्ता देखे
ए दिल ए सौदाई
मीलों है ख़ामोशी
बरसों है तन्हाई
भूली दुनिया कभी की तुझे भी मुझे भी
फिर क्यूं आँख भर आई..


कोई भी साया नहीं राहों में
कोई भी आएगा ना बाहों में
तेरे लिए मेरे लिए कोई नहीं रोने वाला..
हो
झूठा भी नाता नहीं चाहों में
तू ही क्यूं डूबा रहे आहों में
कोई किसी संग मरे ये नहीं होने वाला
कोई नहीं जो यूँ ही जहाँ में बाँटे पीर पराई
किसका रास्ता देखे
ए दिल आए सौदाई

तुझे क्या बीती हुई रातों से
मुझे क्या खोई हुई बातों से
सेज नहीं चिता सही जो भी मिले सोना होगा
गई जो डोरी छूटी हाथों से
लेना क्या टूटे हुए सातों से
खुशी जाहाँ माँगी तूने
वहीं मुझे रोना होगा
ना कोई तेरा ना कोई मेरा फिर किसकी याद आई..


kiska rasta dekhe
e dil e saudai
meelon hai khamoshi
barson hai tanhai
bhuli duniya kabhi ki tujhe bhi mujhe bhi
fir kyun aankh bhar aai..


koi bhi saaya nahin raahon mein
koi bhi aayega na baahon mein
tere liye mere liye koi nahin rone wala..
ho
jhootha bhi naata nahin chahon mein
tu hi kyun dooba rahe aahon mein
koi kisi sang mare ye nahin hone wala
koi nahin jo yun hi jahaan mein baante peer parai
kiska rasta dekhe
e dil ae saudai

tujhe kya beetee hui raaton se
mujhe kya khoi hui baaton se
sej nahin chita sahi jo bhi mile sona hoga
gai jo dori chutee haathon se
lena kya toote huye sathon se
khushi jaahan maangi tune
wahin mujhe rona hoga
na koi tera na koi mera fir kiski yaad aai..

No comments: