Thursday, June 14, 2007

लुका छुपी..

लुका छुपी..
बहुत हुई..
सामने आजा ना
कहाँ कहाँ ढूँढा तुझे
थक गई है अब तेरी माँ

आजा साँझ हुई मुझे तेरी फिकर
धुंधला गई देख मेरी नज़र..
आजा ना..


क्या बताऊं माँ कहाँ हूँ मैं
यहाँ उड़ने को मेरे खुला आसमान है
तेरे क़िस्सो जैसा भोला सलोना जहाँ है
यहाँ सपनों वाला
मेरी पतंग हो बेफ़िकर उड़ रही है माँ
डोर कोई लूटे नहीं
बीच से काटे ना..
आजा साँझ हुई
मुझे तेरी फिकर
ढुंधला गई देख मेरी नज़र आजाना


तेरी राह तके अँखियाँ
जाने कैसा कैसा होये जिया..
तेरी राह तके अँखियाँ
जाने कैसा कैसा होये जिया

धीरे धीरे आँगन उतरे अंधेरा
मेरा दीप कहाँ
ढलके सूरज करे इशारा
चंदा तू है कहाँ
मेरे चंदा तू है कहाँ


लुका छुपी..
बहुत हुई..
सामने आजा ना
कहाँ कहाँ ढूँढा तुझे
थक गई है अब तेरी माँ

कैसे तुझको दिखाऊँ यहाँ है क्या..
तेरे झरने से पानी माँ
तोड़ के पिया है
गुच्छा -2 कोई ख्वाबों का उछाल के छुआ है

छाया लिए भली धूप यहाँ है
नया नया सा है रूप यहाँ
यहाँ सब कुछ है माँ फिर भी
लगे बिन तेरे मुझको अकेला


luka chupi..
bahut hui..
saamne aajaa na
kahaan kahaan dhundha tujhe
thak gai hai ab teri maan

aaja saanjh hui mujhe teri fikar
dhundhla gai dekh meri nazar..
aaja naa..


kya bataoon maan kahaan hoon main..
yahaan udne ko mere khula aasman hai
tere kisso jaisa bhola salona jahaan hai
yahaan sapnon wala
meri patang ho befikar ud rahi hai maan
dor koi lute nahin
beech se kaate na..
aaja sanjh hui
mujhe teri fikar
dhundhla gai dekh meri nazar aajana


teri raah thake ankhiyaan
jaane kaisa kaisa hoye jiya..
teri raah thake ankhiyaan
jaane kaisa kaisa hoye jiya

dheere dheere aangan utre andhera
mera deep kahaan
dhalke suraj kare ishara
chanda tu hai kahaan
mere chanda tu hai kahaan


luka chupi..
bahut hui..
saamne aajaa na
kahaan kahaan dhundha tujhe
thak gai hai ab teri maan

kaise tujhko dikhaoon yahaan hai kya..
tere jharne se paani maan
tod ke piya hai..
guchchaa -2 koi khwabon ka uchal ke chua hai..

chaya liye bhali dhoop yahaan hai
naya naya sa hai roop yahaan
yahaan sab kuch hai maan fir bhi
lage bin tere mujhko akela

No comments: