Thursday, April 26, 2007

suhani raat dhal chuki

सुहानी रात ढल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे
सुहानी रात ढल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे
जहाँ की रुत बदल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे
सुहानी रात ढल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे

नज़ारे अपनी मस्तियां
दिखा-2 के सो गये
सितारे अपनी रौशनी
लुटा-2 के सो गये
हर एक शम्मा जल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे

सुहानी रात ढल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे


तड़प रहे हैं हम यहाँ
तड़प रहे हैं हम यहाँ
तुम्हारे इंतज़ार में
तुम्हारे इंतज़ार में
ख़ीज़ा का रंग आ चला है
मौसम-ए-बहार में
ख़ीज़ा का रंग आ चला है
मौसम-ए-बहार में
हवा भी रुख़ बदल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे
सुहानी रात ढल चुकी
ना जाने तुम कब आओगे
जहाँ की रुत बदक चुकी

ना जाने तुम कब आओगे


suhaani raat dhal chuki
na jane tum kab aoge
suhaani raat dhal chuki
na jane tum kab aaoge
jahaan ki rut badal chuki
na jane tum kab aaoge
suhaani raat dhal chuki
na jane tum kab aaoge

nazaare apni mastiyaan
dikha-2 ke so gaye
sitare apni roushni
luta-2 ke so gaye
har ek shamma jal chuki
na jane tum kab aaoge

suhani raat dhal chuki
na jane tum kab aaoge


tadap rahe hain hum yahaan
tadap rahe hain hum yahaan
tumhare intzaar mein
tumhare intzaar mein
khizaa ka rang aa chala hai
mausam-e-bahaar mein
khiza ka rang aa chala hai
mausam-e-bahaar mein
havaa bhi rukh badal chuki
na jane tum kab aaoge
suhani raat dhal chuki
na jane tum kab aaoge
jahaan ki rut badak chuki

na jane tum kab aaoge

No comments: