Thursday, April 26, 2007

jalte hain jiskel iye

जलते हैं जिसके लिए तेरी आँखों के दिए
ढूँढ लाया हूँ वोही गीत मैं तेरे लिए

दर्द बन के जो मेरे दिल में रहा ढल ना सका
जादू बन के तेरी आँखों में रुका चल ना सका
आज लाया हूँ वही गीत मैं तेरे लिए
जलते हैं जिसके लिए ...

दिल में रख लेना इसे हाथों से ये छूटे ना कहीं
गीत नाज़ुक है मेरा शीशे से भी टूटे ना कहीं
गुनगूनाऊँगा यही गीत मैं तेरे लिए
जलते हैं जिसके लिए...


जब तलक़ ना येह तेरे रस के भरे होठों से मिले
यूं ही आवारा फिरेगा ये तेरी ज़ुलफ़ोन के तले
गाये जाऊंगा यही गीत मैं तेरे लिए

जलते हैं जिसके लिए तेरी आँखों के दिए
ढूँढ लाया हूँ वोही गीत मैं तेरे लिए



jalte hain jiske liye teri aankhon ke diye

dhoondh laya hoon wohi geet mai tere liye



dard ban ke jo mere dil mein raha dhal na saka

jadu ban ke teri aankhon mein ruka chal na saka

aaj laaya hoon wahi geet main tere liye

jalte hain jiske liye ...



dil mein rakh lena ise haathon se ye choote na kahin

geet naazuk hai mera sheeshe se bhi toote na kahin

gungunaoonga yahi geet main tere liye

jalte hain jiske liye...





jab talak na yeh tere ras ke bhare hothon se mile

yum hi awaara firega ye teri zulfon ke tale

gaye jaaoonga yahi geet main tere liye



jalte hain jiske liye teri aankhon ke diye

dhoondh laya hoon wohi geet main tere liye

No comments: