Monday, May 27, 2013

संवार लूं Sanwaar loon- Lootera


हवा के झोंके आज मौसमों से रूठ गये।
गुलों की शोखियाँ जो भंवरे आ के लूट गये। 
बदल रही है आज ज़िन्दगी की चाल ज़रा। 
इसी बहाने क्यूँ न मैं भी दिल का हाल ज़रा 
संवार लूं ह़ाए संवार लूं 
संवार लूं ह़ाए संवार लूं 

बरामदे पुराने हैं नयी सी धूप है। 
जो पलकें खटखटा रहा है किसका रूप है। 
शरारतें करे जो ऐसे भूल के हिजाब कैसे 
उसको नाम से मैं पुकार लूं .. 
संवार लूं ह़ाए संवार लूं 
संवार लूं ह़ाए संवार लूं 

hawa ke jhonke aaj mausamon se rooth gaye
gulon ki shokhiyaan jo bhanvare aa ke loot gaye
badal rahi aaj zindagi ki chaal zara
isi bahane kyun na main bhi dil ka haal zara
sanwaar loon.. sanwaar loon.. 

baramde purane hain nayi si dhoop hai
jo ban ke khatkhata raha hai kiska roop hai.. 
sharaaratein  kare jo aise bhool ke hijaab 
kaise usko naam se main pukaar loon.. 
sanwaar loon... sanwaar loon.. 



Song: Sawaar Loon
Singer: Monali Thakur
Music: Amit Trivedi
Lyrics: Amitabh Bhattacharya
Music On: T-Series

No comments: