Monday, September 24, 2007

आंखों में तेरी

आंखों में तेरी
अजब सी अजब सी अदाएं हैं
दिल को बना दे जो पतंग साँसे तेरी वो हवाएँ हैं
हो

आई ऐसी रात है जो
बहुत खुशनसीब है
चाहे जिसे दूर से दुनिया
वो मेरे करीब है
कितना कुछ कहना है फिर भी हैं दिल में हैं सवाल कहीँ
सपनों में जो रोज़ कहा है वो फिर से कहूँ या नहीं...

तेरे साथ साथ ऐसा कोई नूर आया है
चाँद तेरी रौशनी का हल्का सा एक साया है
तेरी नज़रों ने दिल का किया जो हश्र
असर यह हुआ
अब इन में ही डूब के हो जाऊँ पार
यही है दुआ


फिल्म : ॐ शांति ॐ

aankhon mein teri
ajab see ajab see adaaein hain
dil ko bana de jo patang saansein teri woh hawaein hain
ho

aai aisi raat hai jo
bahut khushnaseeb hai
chahe jise dur se duniya
woh mere kareeb hai
kitna kuchh kehna hai fir bhi hain dil mein hain sawaal kahin
sapnon mein jo roz kaha hai woh fir se kahoon ya nahin...

tere saath saath aisa koi noor aaya hai
chaand teri roushni ka halka sa ek saaya hai
teri nazron ne dil ka kiya jo hashar
asar yeh hua
ab in mein hi doob ke ho jaun paar
yahi hai dua

No comments: